इस देसी जुगाड़ के सामने नहीं टिकेंगे डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया के मछर

इस देसी जुगाड़ के सामने नहीं टिकेंगे डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया के मछर

मित्रो मच्छर भगाने के लिए आप अक्सर घर मे अलग अलग दवाएं इस्तेमाल करते हैं ! कोई तो liquid form मे होती हैं ! और कोई कोई coil के रूप मे और कोई छोटी टिकिया के रूप मे !! और all out, good night, baygon, hit जैसे अलग-अलग नामो से बिकती है ! इन सबमे जो कैमिकल इस्तेमाल किया जाता है ! वो डी एथलीन है,मेलफो क्वीन है और फोस्टीन है !! ये तीन खतरनाक कैमिकल है ! और ये यूरोप मे अन्य 56 देशो मे पिछले 20 -20 साल बैन है ! और हम लोग घर मे छोटे-छोटे बच्चो के ऊपर ये लगाकर छोड़ देते हैं ! 2-3 महीने का बच्चा सो रहा होता है ! और साथ मे ये जहर जल रहा होता है !! TV विज्ञापनो ने आम व्यक्ति का दिमाग पूरा खराब कर दिया है !

इस विडियो में देखिए इन दवाओ का विकल्प जो बिलकुल भी हानिकारक नहीं है >>

Video Player

वैज्ञानिको का कहना है ये मच्छर मारने वाली दवाए कई कोई बार तो आदमी को ही मार देती हैं !! इनमे से निकलने वाली सुगंध मे धीमा जहर है जो धीरे – धीरे शरीर मे जाता रहता है !!और कोई बार आपने भी महसूस किया होगा इसे सुघने से गले मे हल्की-हल्की जलन होने लगती है !!

ये जो तीन खतरनाक कैमिकल डी एथलीन है मेलफो क्वीन है और फोस्टीन है ! इन पर कंट्रोल विदेशी कंपनियो का है ! जो आयात कर यहाँ लाकर बेच रहे है ! और कुछ स्वदेशी कंपनिया भी इनके साथ इस व्यपार मे शामिल है ! और इन कंपनियो के द्वारा बनाई गई coil मे से जो धुआँ निकलता है वो भी बहुत अधिक खतरनाक है अभी एक दो वर्ष पहले की रिपोर्ट मे बताया गया एक coil से 100 सिगरेट जितना धुआँ निकलता है सोचिए ! मच्छर भगाना आपको आपके परिवार को कितना महंगा पर सकता है !

इस विडियो राजीव भाई से सुनिए ये दवाए कैसे हमारे लिए हानिकारक है >>

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *